कोरोना को लेकर कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने हाल ही में दो अंतराष्ट्रीय हेल्थ एक्सपर्ट से बात की है। इस बात चीत में राहुल ने कोरोना की वैक्सीन को लेकर बात की। जिस पर हॉवर्ड यूनिवर्सिटी  के प्रोफेसर आशीष झा ने कहा कि अगले साल तक कोरोना की वैक्सीन बाजार में पंहुचनी शुरू हो जाएगी। प्रोफेसर ने आगे बताया कि अमेरिका और चीन के द्वारा बनाई जा रही वैक्सीन बेहतरीन साबित होती दिखाई दे रही है(RAHUL GANDHI CONVERSATION WITH GLOBAL HEALTH EXPERTS ON CORONA VIRUS)। अगर अगले साल तक यह वैक्सीन बन जाती है तो भारत को इस वैक्सीन के 50-60 करोड़ डोज की जरूरत होगी।

read more

कोरोना के दौरान प्रवासी मजदूरों अपने गांवो की तरफ तो लौट रहे हैं लेकिन उन्हे घर में दाखिल नहीं होने दिया जा रहा उन्हे गांव के बाहर या आस पास मौजूद स्कूलों में क्ववैरंटाइन कराया जा रहा है। ऐसे ही कई राज्य हैं जो लोगों के क्ववैरंटाइन का खर्चा उठा रहे हैं। इन राज्यों में ना केवल इनके रहने और खाने का इंतजाम किया जा रहा है बल्कि टूथ पेस्ट, साड़ी, लुगी, सैनेटरी पैड और शैम्पू तक सब कुछ मुहैया कराया जा रहा है। यही नहीं क्वेरेंटाइन पूरा होने के बाद इन्हे राशन या नगदी भी दी जा रही है। चलिए जानते हैं यह राज्य प्रति व्यक्ति क्वेरंटाइन पर कितना पैसा खर्च कर रहे हैं(GOVERNMENT BEAR QUARANTINE EXPENSES OF MIGRANT WORKERS)।

read more

चीन लद्दाख में लाइफ लाइन एक्चुअल (एलएसी) कंट्रोल के आस पास चीन ने फिर से दादा गिरी दिखानी शुरू कर दी है , यंहा चीनी और भारतीय सेना के बीच तनाव बढ़ता जा रहा है। इसी को देखते हुए  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, एनएसए अजीच डोभाल, सीडीएस बिपिन रावत और तीनों सेना प्रमुखों के साथ मीटिंग की थी। इस मीटिंग में कुछ अहम फैसले लिए गए जिसमें पहला यह था कि इस क्षेत्र में सड़क निर्माण का काम चलता रहेगा और दूसरा भारतीय सैनिकों की तैनाती उतनी ही रहेगी जितनी चीन की है (MAY BE WAR IS GOING TO HAPPEN BETWEEN CHINA AND INDIA)।

read more

कोरोना में बेरोजगारी की मार झेल रहे प्रवासी मजदूरों के हित में अब सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार और राज्य सरकारों आदेश दिया है। सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि केंद्र और राज्य सरकारे मिल कर मजदूरों की यात्रा का, ठहरने का और खाने पीने का इंतजाम करे(SUPREME COURT ON STRANDED MIGRANT WORKERS PLIGHT OVER CORONA VIRUS)। कोरोना समय में लॉकडाउन के चलते सबसे ज्यादा परेशानी अगर कोई झेल रहा है तो वह हैं प्रवासी मजदूर। ऐसे में लंबे वक्त से इन मजदूरों की सुध लेने वाला कोई दिखाई ही नहीं दे रहा था। सरकार द्वारा उठाए गए कदमों पर सुप्रीम कोर्ट ने भी यही कहा कि इस मामले में सरकार से  कई गलतियां हुई हैं। आगे सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि केंद्र और राज्य सरकार मिल कर प्रवासी मजदूरों के लिए काम करें(SUPREME COURT ON STRANDED MIGRANT WORKERS PLIGHT OVER CORONA VIRUS)।

read more

कोरोना वायरस के दौरान किए गए लॉकडाउन में जिस तरह देश की अर्थव्यवस्था प्रभावित हुई है, यह तो हम सभी जानते हैं।वंही लॉकडाउन 4.0 में राहत मिलने के बाद कुछ सेक्टर तो ठीक होने लगे हैं। लेकिन मॉल्स अभी भी बंद ही पड़े हैं जिसकी वजह से यह, हर रोज एक बढ़ा घाटा झेल रहे हैं। कोरोना काल में अब तक के लॉकडाउन में इस इंडस्ट्री को करीब 90 हजार करोड़ का घाटा हुआ है(MALLS ARE IN LOSS OF 90 THOUSAND CRORES RUPEES)। इसकी जानकारी शॉपिंग सेंटर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया ने दी है। एससीएआई ने यह भी कहा है कि इस सेक्टर में आरबीआई द्वारा दी गई रियायत काफी नहीं है।

read more

इस साल में अगर दो सबसे बड़े मुद्दे दिखाई दिए हैं तो वह कोरोना और टिक टॉक है, खास बात यह है कि दोनो ही चीजें चीन के द्वारा ही बनाई गई हैं। कोरोना जैसी महामारी से निपटने के लिए तो सरकार हर मुमकिन कोशिश कर रही है। लेकिन टिक टॉक से निपटने की जिम्मेदारी यू-ट्यूबर्स और मीमर्स ने ले ली है (TIK TOK BAD DAYS BEGIN IN INDIA) । यह जिम्मेदारी कुछ इस तरह निभाई है जिसका कोई हिसाब ही नहीं है। महज एक ही सप्ताह में इस एप की रेटिंग 4.5 से गिर कर 1.2 तक पंहुच गई है। अब तो टिक टॉक का और भी बुरा हाल हो रहा है, इस एप को मई महीने में बहुत ही कम लोगों ने डाउनलोड किया है।

read more

कोरोना काल  की इस स्थिति में देश वैश्विक महामारी के साथ साथ एक बहुत बड़ी आर्थिक समस्या से जूझ रहा है,जिससे निपटने के लिए बड़े अर्थशास्त्रिय देश की सरकार को सलाह दे रहे हैं। लेकिन इन सलाहों के बीच महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री पृथ्वीराज चव्हाण ने भी सरकार को सलाह दे डाली जिस पर बवाल होना शुरू हो गया। चव्हाण साहब ने कहा डाला की सरकार को मंदिरों के सोने का इस्तेमाल करना चाहिए(CAN GOLD IN INDIAN TEMPLES HELP ECONOMY AMID CORONA CRISES)। इस पर भाजपा के कई नेता भड़क गए और उन्होंने प्रथ्वीराज चव्हाण को आढ़े हाथो लेना शुरू कर दिया. भाजपा नेता यही नहीं रूके उन्होने इस मामले में कांग्रेस की भी क्लास लगानी शुरू कर दी।

read more

उत्तर प्रदेश में राजनीति बिलकुल चरम पर पंहुच गई है। पहले कांग्रेस पार्टी के बस चलाने को लेकर राजनीति हुई,अब जो भी प्रवासी मजदूर यूपी लौट चुके हैं उन्हे लेकर राजनीति होनी शुरू हो गई है। हाल ही में उत्तर प्रदेशे के मुख्यमंत्री ने अपने ट्वविटर अकाउंट पर एक वीडियो शेयर किया है जिसमें वह यह कहते दिख रहे हैं कि दिल्ली से आए 50 फीसदी लोग कोरोना संक्रमित हैं, वंही मुंबई से आए 75 फीसदी और अन्य राज्यों से आए 25 फीसदी लोग कोरोना संक्रमित है। आपको बता दें अन्य राज्यों से यूपी में अब तक 25 लाख प्रवासी मजदूर पंहुच गए हैं। ऐसे में प्रियंका गांधी ने योगी सरकार के इन आंकड़ो पर सवाल उठाए हैं(CONGRESS LEADER PRIYANKA GANDHI QUESTIONS YOGI ADITYNATH CLAIM ON MIGRANT WORKERS) ।

read more

कोरोना काल में अगर सबसे बुरा हाल किसी देश का है तो वह है अमेरिका का। अब तक पूरी दुनिया में सबसे ज्यादा कोरना के मामले यंही देखे गए हैं। कोरोना के बढ़ते मामले और मौतों की संख्या को देखते हुए अमेरिकी नागरिक राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प का विरोध करते दिखाई दिए (USA PEOPLE PROTEST AGAINST DONALD TRUMP)। बीते दो दिनों से राष्ट्रपति गोल्फ खेलने जा रहे हैं और इसी गोल्फ कोर्से के पास लोग खड़े हो कर अपना विरोध जता रहे हैं। गोल्फ कोर्से बाहर लोग तख्तियां ले कर खड़े दिखाई दिए जिसमें यह लिखा था कि कोरोना से अब तक एक लाख लोग मर गए हैं क्या आपको चिंता है, हमे तो है। इसके अलावा ऐसे लाखो लोग हैं जो डोनाल्ड ट्रम्प का का सोशल मीडिया पर भी जम कर विरोध कर रहे हैं।

read more

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन दवा पर सभी देशों को निर्देश दिया है और इसके इस्तेमाल पर रोक लगाने का फैसला किया है (WHO STOP HYDROXYCHLOROQUINE FOR COVID 19 OVER SAFETY CONCERNS)। यह फैसला इसके साइड इफेक्टस को देखते हुए किया गया है। इस पर हाल ही में WHO के चीफ टेड्रॉस गेब्रयेसस ने मेडिकल जर्नल लेन्सेट की एक स्टडी का जिक्र किया था, इस स्टडी में यह बताया गया है कि हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन के इस्तेमाल से लोगों की जान जाने का खतरा अधिक बढ़ जाता है।

read more