Categories: विश्व

अमेरिकी राष्ट्रपति ने WHO से खत्म किया अपना रिश्ता, चीन के कुछ लोगों पर बैन लगाने की कही बात

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प का गुस्सा एक बार फिर  चीन और विश्व स्वास्थ्य संगठन पर फूट पड़ा है। राष्ट्रपति ट्रम्प ने अब यह फैसला किया है कि वह अब विश्व स्वास्थय संगठन से किसी तरह का कोई रिश्ता नहीं रखेगा। साथ ही ट्रम्प ने चीन के कुछ नागरिकों को बैन करने की बात भी कही है।(US TERMINATE THEIR RELATIONSHIP WITH WORLD HEALTH ORGANISATION) इसके अलावा मौके पर उन्होंने हॉगकांग के के हितों के बारे में भी बात की। आपको बता दें  विश्व स्वास्थ्य संगठन को दिए जाने वाला फंड अमेरिका पहले ही रोक चुका है। इसके साथ ही उसने यह फंड किसी और स्वास्थ्य संस्था को देने की बात कही है।

अमेरिकी राष्ट्रपति का चीन और WHO पर हमला (US TERMINATE THEIR RELATIONSHIP WITH WORLD HEALTH ORGANISATION)

अमेरिकी राष्ट्रपति ने इस बीच विश्व स्वास्थ्य संगठन और चीन पर जमकर निशाना साधा। ट्रम्प ने  कहा कि विश्व स्वास्थ्य संगठन पर पूर नियंत्रण केवल चीन का है। उन्होने आगे अपने और चीन के द्वारा विश्व स्वास्थ्य संगठन  को दिए जाने वाले फंड को लेकर भी इशारा किया। ट्रम्प ने कहा कि चीन WHO को केवल 4.5 करोड़ डॉलर देता है, जबकि अमेरीका 45 करोड़ डॉलर देता है(US TERMINATE THEIR RELATIONSHIP WITH WORLD HEALTH ORGANISATION)।  राष्ट्रपति ने आगे कहा कि इन दोनो ने ही हमारी बाते नहीं मानी, इसलिए हम WHO से संबंध खत्म कर रहे हैं।

ट्रम्प यंही नही रूके उन्होने एक बार फिर कोरोना वायरस को चीन की लैब में बना हुआ बताया और इस वायरस को दुनियाभर में फैलाने का जिम्मेदार माना। इसके बाद उन्होंने अमेरिका और दुनिया में कोरोना से मरने वालों को लेकर भी बात कही। साथ ही यह भी कहा कि कोरोना वायरस दुनिया के लिए चीन का एक बुरा तोहफा है। आपको बता दें कि कोरोना की वजह से अब तक अकेले अमेरिका में 1 लाख से अधिक लोगों की मौत हो गई है। वंही पूरी दुनिया में कुल 10 लाख से अधिक लोग अपनी जान इस वायरस की वजह से गंवा चुके हैं(US TERMINATE THEIR RELATIONSHIP WITH WORLD HEALTH ORGANISATION)।

यह मामला शुरू तब हुआ जब पूरी दुनिया कोरोना वायरस को चीन की लैब में बना हुआ बता रही थी। लेकिन विश्व स्वास्थ्य संगठन के महानिदेशक डॉक्टर डेडरोस अधनोम गैब्रियेस ने चीन को कोरोना पर ग्रीन चीट दे दी। जिसके बाद से ही अमेरिका ने WHO के नाम पर ही मोर्चा खोल दिया।

चीन और WHO के बीच सांठ गांठ

सूत्र बताते हैं कि साल 2017 में डॉक्टर डेडरोस अधनोम गैब्रियेस जो इथोपिया के नागरिक हैं उन्हे चीन की वजह से ही WHO का महानिदेशक बनाया गया था। इसके लिए चीन ने खुद भी और अपने सहयोगी देशों से गैब्रियस के लिए वोट कराया था। जिसके बाद वह इस पद पर पंहुचे। इसलिए इस बात कां अदेशा लगाया जा रहा है कि यह चीन और डब्ल्यूएचओ की मिली भगत है।

Nishant

Recent Posts

प्रधानमंत्री कृषि अनुदान योजना मध्यप्रदेश 2021 | PM Krishi Anudan MP

प्रधानमंत्री कृषि अनुदान योजना मध्यप्रदेश 2021 मध्य प्रदेश किसान अनुदान योजना की शुरुआत मध्य प्रदेश…

4 hours ago

माझी कन्या भाग्यश्री योजना 2021 | Majhi Kanya BhagyaShree Scheme, Complete Details

महाराष्ट्र सरकार द्वारा प्रदेश में महिला शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए माझी कन्या भाग्यश्री…

5 hours ago

UP Bhulekh | यूपी ऑनलाइन खसरा खतौनी नकल, जमाबंदी देखें! @upbhulekh gov

UP Bhulekh को कहीं अलग अलग नामों से भी जाना जाता है, जैसे खेत का…

6 months ago

PM Kisan Samman Nidhi Yojana List | किसान सम्मान निधि लाभार्थी सूची 2020 ऑनलाइन देखें @pmkisan gov

देश की आर्थिक व्यवस्था को बनाए रखने में किसानों का बहुत बड़ा योगदान रहा है।…

6 months ago

प्रधानमंत्री श्रम योगी मानधन योजना ऑनलाइन आवेदन | PMSYM Yojana 2020 Apply Online, Registration Form

 श्री नरेंद्र मोदी ने देश के असंगठित क्षेत्र के लोगों को राहत पहुंचाने के लिए…

6 months ago

बिहार राशन कार्ड लिस्ट 2020 | जिलेवार बिहार राशन कार्ड लाभार्थी सूची ऑनलाइन देखें, डाउनलोड करें

Bihar Ration Card बिहार सरकार के द्वारा जारी किया गया एक Document है। यह राशन…

6 months ago

This website uses cookies.